Maut Shayari in Hindi

Maut Shayari in Hindi

ज़िंदगी इक हादसा है और कैसा हादसा, मौत से भी ख़त्म जिस का सिलसिला होता नहीं। "जिगर मुरादाबादी"
अब मौत से कह दो कि नाराज़गी खत्म कर ले, वो बदल गया है जिसके लिए हम ज़िंदा थे।
ज़िंदगी इक सवाल है जिस का जवाब मौत है, मौत भी इक सवाल है जिस का जवाब कुछ नहीं।
शुक्र है कि मौत सबको आती है, वरना अमीर तो इस बात का भी मजाक उड़ाते, कि गरीब था इसलिए मर गया।
मुझे आज भी यकीन है की तु एक दिन लौटकर आयेगा, चाहे वो दिन मेरी मौत का ही क्यों ना हो।
हाथ पढ़ने वाले ने तो परेशानी में डाल दिया मुझे, लकीरें देख कर बोला, तु मौत से नहीं, किसी की याद में मरेगा।
न मौत आती है न कोई दवा लगती है, न जाने उसने इश्क में कौन सा जहर मिलाया था।
ज़िंदगी है अपने क़ब्ज़े में न अपने बस में मौत, आदमी मजबूर है और किस क़दर मजबूर है।

Best Maut Shayari In Hindi

Maut Shayari in Hindi
जो लोग मौत को ज़ालिम करार देते हैं, खुदा मिलाये उन्हें ज़िन्दगी के मारो से।
ए मौत, जरा पहले आना गरीब के घर, 'कफ़न' का खर्च दवाओं में निकल जाता है।
कमाल है..न जाने ये कैसा उनका प्यार का वादा है, चंद लम्हे की जिंदगी और नखरे मौत से भी ज्यादा हैं।
उसको छूना जुर्म है तो​ मेरी सजा-ए-मौत का इंतजाम करो, मेरे दिल की जिद है की आज उसे सीने से लगाना है।
चंद सांसे है, जो उड़ा ले जाएगी, इससे ज्यादा मौत मेरा, क्या ले जाएगी।
जिन्दगी जख्मो से भरी है वक्त को मरहम बनाना सीख लो, हारना तो है एक दिन मौत से फिलहाल जिन्दगी जीना सीख लो।
नफरत करने की दवा बता दो यारो, वरना मेरी मौत की वजह मेरा प्यार ही होगा।
ज़िंदगी तेरे पहलू में गुज़रने को यूँ बेताब थी, कमबख़्त नादानी में मौत को गले लगा बैठी।
कैद है कुछ ख़्वाब इन खुली आँखों में, न जाने कब जागती रातो का सवेरा होगा।
किसी कहने वाले ने भी क्या खूब कहा है कि, मेरी ज़िन्दगी इतनी प्यारी नहीं की मैं मौत से डरूं।
सुलगती जिन्दगी से मौत आ जाये तो बेहतर है, अब हमसे दिल के अरमानों का मातम नही होता।
ना जाने आखिर इतना दर्द क्योँ देती हैँ ये मोहब्बत, हँसता हुआ इँसान भी दुआओ मेँ मौत माँगता है।

Maut Shayari

Maut Shayari in Hindi
मौत से बचने का सबसे शानदार तरीका है, दूसरे के दिलों में जिंदा रहना सीख लो।
ये इश्क़ बनाने वाले की मैं तारीफ करता हूं, मौत भी हो जाती है और कातिल भी पकड़ा नही जाता। 
वो इतना रोई मेरी मौत पर मुझे जगाने के लिए, मैं मरता ही क्यूँ अगर वो थोडा रो देती मुझे पाने के लिए।
ज़िंदा लाशो की भीड़ है चारो तरफ, मौत से भी बड़ा हादसा है ज़िन्दगी।
अगर रुक जाये मेरी धड़कन तो मौत न समझना, कई बार ऐसा हुआ है उसे याद करते करते।
मृत्यु जीवन के विपरीत नहीं है, बल्कि उसका एक हिस्सा है।
मौत जीवन में सबसे बड़ा नुकसान नहीं है। ई सबसे बड़ा नुकसान वह है जो हमारे रहते हुए हमारे अंदर मर जाता है।
एक आदमी प्यार या अपने जिगर या बुढ़ापे से नहीं मरता, वह आदमी होने से मरता है।
बुरा मत मानो, मैं आमतौर पर मरने वाला हूं।
मृत्यु के साथ ईमानदारी आती है।
जन्म लेते ही व्यक्ति की मृत्यु होने लगती है।

Maut Shayari In English

Maut Shayari in Hindi
कोई बात जरूरी नहीं कि सच हो क्योंकि आदमी उसके लिए मरता है।
कायर मरने से पहले कई बार मरते हैं।
मृत्यु का भय जीवन के भय से उत्पन्न होता है।
एक व्यक्ति ने बहुत कुछ सीखा है जिसने मरना सीख लिया है।
शूरवीर कभी मृत्यु का स्वाद नहीं चखते बल्कि एक बार।
अच्छे लोगों को मरना चाहिए, लेकिन मौत उनके नामों को नहीं मार सकती।
मृत्यु, तू अनंत है, जीवन छोटा है।
मृत्यु शांतिपूर्ण है, जीवन कठिन है।
संसार की सराय और मृत्यु यात्रा का अंत।
मृत्यु एक बड़ी राहत होगी। कोई और साक्षात्कार नहीं।

Sad Maut Shayari In Hindi

Maut Shayari in Hindi
मैं बिना किसी निशान के मरना नहीं चाहता।
मौत एक जीवन का अंत करती है, रिश्ते का नहीं।
जो दे रहे हो हमें ये तड़पने की सज़ा तुम, हमारे लिए ये सज़ा ऐ मौत से भी बदतर है।
तलब मौत की करना गुनाह है ज़माने में यारों, मरने का शौक है तो मुहब्बत क्यों नहीं करते।
मेरी ज़िंदगी तो गुजरी तेरे हिज्र के सहारे, मेरी मौत को भी कोई बहाना चाहिए।
जिंदगी गुजर ही जाती है तकलीफें कितनी भी हो, मौत भी रोकी नहीं जाती तरकीबें कितनी भी हो।
अच्छाई अपनी जिन्दगी, जी लेती हैं, बुराई अपनी मौत, खुद चुन लेती है।
थक गई मेरी जिन्दगी भी लोगो के जवाब देते, अब कही मेरी मौत न लोगो का सवाल बन जाऐ।
मौत से तो दुनिया मरती है, आशिक तो प्यार से ही मर जाता है।

Maut Shayari In Hindi

मौत का नही खौफ मगर एक दुआ है रब से, कि जब भी मरु तेरे होने का एहसास मेरे साथ मर जाये।
दर्द गूंज रहा दिल में शहनाई की तरह, जिस्म से मौत की ये सगाई तो नहीं।
सुना है मौत एक पल की भी मोहलत नहीं देती, मैं अचानक मर जाऊ तो मुझे माफ़ कर देना।
करूँ क्यों फ़िक्र मौत के बाद जगह कहाँ मिलेगी, जहाँ होगी दोस्तों की महफिलें, मेरी रूह वहाँ मिलेगी।
एक मुर्दे ने क्या खूब कहा है, ये जो मेरी मौत पर रो रहे है, अभी उठ जाऊं तो जीने नहीं देंगे।
मौत से क्या डर मिनटों का खेल है, आफत तो ज़िन्दगी है जो बरसो चला करती है।
साज़-ए-दिल को महकाया इश्क़ ने, मौत को ले कर जवानी आ गई।
ना जाने मेरी मौत कैसी होगी, पर ये तो तय है की तेरी बेवफाई से तो बेहतर होगी।
वफ़ा सीखनी है तो मौत से सीखो, जो एक बार अपना बना ले फिर किसी का होने नहीं देती। 
शिकायत मौत से नहीं अपनों से थी मुझे, जरा सी आँख बंद क्या हुई वो कब्र खोदने लगे।
अपनी मौत भी क्या मौत होगी, एक दिन यूँ ही मर जायेंगे तुम पर मरते मरते।
कौन कहता है कि मौत आई तो मर जाऊँगी, मैं तो नदी हूँ समुंदर में उतर जाऊँगी।
बे-मौत मर जाते है, बे-आवाज़ रोने वाले।
इश्क से बचिए जनाब, सुना है धीमी मौत है ये।
जहर पीने से कहाँ मौत आती है, मर्जी खुदा की भी चाहिए मौत के लिए।
हद तो ये है कि मौत भी तकती है दूर से, उसको भी इंतजार मेरी खुदकुशी का है ।
पता नहीं कौन सा जहर मिलाया था तुमने मोहब्बत में, ना जिंदगी अच्छी लगती है और ना ही मौत आती है।

Read Also: happy birthday wishes in Punjabi(2023)

Similar Posts